कैसे चुने सही हेल्थ पॉलिसी ?

भारत के लोगो की आय में बढ़ोतरी के कारण आजकल रहन-सहन में बहुत बदलाव आ गए हैं। एक तरफ जहाँ लोगो की औसत उम्र बढ़ रही है वहीँ दूसरी तरफ हेल्थ से जुड़े खर्चे भी बढ़ रहे हैं। इन हालात में हेल्थ पॉलिसी का होना बहुत जरुरी हो गया है। अभी दिक्कत यह है की लोग सिर्फ टैक्स बचाने के लिए ही स्वस्थ्य बीमा खरीदते हैं और वो भी वित्तीय वर्ष के अंत में। ऐसे में लोग जल्दीबाज़ी में कुछ भी खरीद लेते हैं। हमे पता होना चाहिए की हेल्थ पॉलिसी आपकी सेहत के रखरखाव का सबसे बड़ा और उपयोगी साधन है। तो आइये जानते हैं की हेल्थ पॉलिसी चुनते वक्त किन बातो का ध्यान रखे –

१. बाजार में उपलब्ध सभी पॉलिसियों का अध्ययन करे और फिर अपनी जरुरत के हिसाब से जो पॉलिसी अच्छी हो उसे चुने।

२. पॉलिसी चुनने से पहले यह ज़रूर से जांच ले की उस पॉलिसी के दायरे में क्या क्या शामिल है और किन किन बिमारियों की शामिल नहीं किया गया है।

३. ऐसी पॉलिसी चुने जो पूरे भारत में एक जैसी सुविधा प्रदान करे। सिर्फ वही पॉलिसी न चुने जो आपके शहर के लिए उपयुक्त हो क्योंकि आपको नहीं पता इलाज कहा करवाना पड़ सकता है।

४.अपनी और परिवार वालो की सेहत और सबकी उम्र को ध्यान में रखकर पॉलिसी का चुनाव करे।

५. पॉलिसी चुनने के साथ यह भी तय करना जरुरी है की बीमा कितने का लें। ध्यान रखे अगर अकेले हैं तो काम से काम ५ लाख का बीमा लें, शादी शुदा हैं तो कम से कम १० लाख का बीमा लें और अगर बुजुर्ग माता पिता के लिए लें रहे हैं तो कम से कम १०-१२ लाख का बीमा लें।

६. जिस भी कंपनी की पॉलिसी लें तो यह जान लें की क्लेम इन हाउस सेटलमेंट से क्लियर होगा या थर्ड पार्टी एजेंट के द्वारा सेटलमेंट होगा। इन हाउस सेटलमेंट करने वाली कंपनी को ज्यादा महत्व दे।

७. कम्पनी चुनते समय यह भी जान लें की आपके शहर के कौन कौन से हॉस्पिटल में कैशलेस सुविधा मिलेगी।

८. ऐसी पॉलिसी चुने जिसके तहत खर्च की कोई सीमा नहीं हो। मतलब की जितना क्लेम हो कवर की सीमा तक पूर्ण प्राप्त हो।

९. दो साल के लिए पॉलिसी लेने पर डिस्काउंट मिलता है। तो सोच समझ कर ख़रीदे।

१०. पॉलिसी लेने से पहले बस एक बार सभी नियम व् शर्तो को ध्यान से पढ़ लें ताकि भविष्य में किसी भी प्रकार की दिक्कत न हो।

लेखक –
आयुष भार्गव
सर्टिफाइड फाइनेंशियल प्लानर


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *