सिर्फ टैक्स बचाने के लिए न खरीदें स्वास्थ्य बीमा

अपने आस पास के दोस्तों और रिश्तेदारों को स्वास्थ्य बीमा के बारे में बात करते तो सुना ही होगा आपने ? क्या उनमे से आपने किसी को भी क्लेम प्राप्त करते हुए देखा है ? अगर हाँ तो आप यह जानते होंगे की स्वास्थ्य बीमा का क्या महत्व होता है ज़िन्दगी में।  आम तौर पर देखा गया है की जिसके पास स्वास्थ्य बीमा होता है वो उन लोगो से ज्यादा चिंता मुक्त और सुखी रहता है जिनके पास स्वास्थ्य बीमा नहीं होता।

स्वास्थ्य के क्षेत्र में महंगाई दर हर वर्ष १५% – २०% की दर से बढ़ रही है जो की साधारण महंगाई दर से तीन गुना है।  एक गंभीर बीमारी आपके परिवार पर बहुत बड़ा आर्थिक बोझ डाल सकती है, जिसकी भरपाई करने में वर्षो लग सकते हैं। और अगर परिवार के मुखिया को ही कोई बीमारी हो जाये या किसी दुर्घटना का शिकार हो जाये तो आमदनी तो रुकेगी ही साथ में वर्षो से जमा की गयी बचत पर भी असर पड़ेगा।  इसी कारण कहा जाता है की जितना जल्दी हो सके स्वास्थ्य बीमा में निवेश करे और पूरे परिवार को स्वास्थ्य बीमा से कवर करवाए।

टैक्स में बचत का पहलु स्वास्थ्य बीमा को और आकर्षित बनता है। सरकार द्वारा स्वास्थ्य बीमा पर टैक्स में छूट देने के पीछे कारण बस इतना है की सरकार चाहती है की ज्यादा से ज्यादा लोग स्वास्थ्य बीमा ख़रीदे। अभी एक सामान्य परिवार सालाना रु ५०,००० से रु ७५,००० तक की टैक्स बचत कर सकता है स्वास्थ्य बीमा खरीद कर।  लेकिन सिर्फ टैक्स में छूट के कारण ही बीमा न ख़रीदे। 

वित्तीय वर्ष की आखरी तिमाही में लोग आँखे बंद करके कोई भी पालिसी खरीद लेते हैं।  बीमा एजेंट भी इसका फायदा उठाने में पीछे नहीं रहते। लेकिन यह गलत है।  निवेशक को चाहिए की वे आँख बंद करके कोई भी पालिसी न ख़रीदे।  अलग अलग कंपनी की पालिसी की जांच करे और जो आपके और आपके परिवार के लिए उपयुक्त हो सिर्फ वही ख़रीदे। इसके लिए आपके पास साल भर का समय होता है।

टैक्स में बचत की जल्दबाजी आपका नुक्सान करा सकती है।  हमारी सलाह यही होगी की अपनी जरूरतों को समझे और फिर  ऐसे विकल्प का चुनाव करे जो ज्यादा सुविधा दे और प्रीमियम भी आपके बजट के अनुसार हो  और उसके बाद ही बीमा ख़रीदे।

याद रखे स्वास्थ्य और पैसे से जुड़े मामलो में जल्दबाज़ी आपको ही भारी पड़ सकती है।

लेखक
आयुष भार्गव
सर्टिफाइड फाइनेंशियल प्लानर

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *