करदाता ध्यान दें

अगर आप एक ऐसे निवेशक हैं जिन्होंने वित्तीय वर्ष 2019-20 के लिए टैक्स सेविंग विकल्पों में निवेश नहीं किया है तो आपके लिए खुशखबरी है। आमतौर पर हर वर्ष 31 मार्च तक ही आप चुनिंदा विकल्पों में सेक्शन 80 सी / 80 सी सी डी (१बी) के तहत निवेश करके या फिर सेक्शन 80 डी और सेक्शन 80 जी के तहत पैसा खर्च करके टैक्स में छूट प्राप्त कर सकते हैं। इस वर्ष कोविद -19 के चलते पहले सरकार ने इसकी तारीख 30 जून तक बढ़ा दी थी जिसे अब और आगे बढ़ा कर 31 अगस्त कर दिया है।

जानकारी के लिए बता दें की आप टैक्स बचाने के लिए

१. सेक्शन 80 डी के तहत स्वाथ्य बीमा खरीद सकते हैं।

२. सेक्शन 80 सी के तहत आप म्यूच्यूअल फण्ड की ई.एल.एस.एस. स्कीम, पी.पी.ऍफ़, नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट, टैक्स सेविंग ऍफ़.डी, एन. पी.एस. या फिर जीवन बीमा पालिसी में निवेश कर सकते हैं।

३. सेक्शन 80 सी. सी. डी. (1बी) के तहत आप अतिरिक्त रु 50 हज़ार एन.पी.एस. में निवेश करके टैक्स में छूट प्राप्त कर सकते हैं।

४. सेक्शन 80 जी के तहत आप अगर किसी रजिस्टर्ड संस्था को दान करते हैं तो आपको टैक्स में छूट मिल सकती है।

निवेश करने के लिए आप अपने वित्तीय सलाहकार से मदद ले सकते है।

इसी के साथ अगर किसी करदाता ने किसी कारणवश वित्तीय वर्ष 2018-19 का इनकम टैक्स रिटर्न नहीं भरा है तो वे 31 अगस्त 2020 तक इस कार्य को पूरा कर सकते हैं। सरकार ने पहले इसकी तारीख 31 मार्च से बढाकर 30 जून तक कर दी थी। टैक्स रिटर्न फाइल करने के लिए आप टैक्स सलाहकार की मदद ले सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *